🙏 UNIK🙏 क्या यहीं हैं हमारे जनादेश का सम्मान । । मेरा प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और कानून मंत्री से हाथ-पाँव पकर कर विनती हैं कि असंवैधानिक बयान और हरकतें करने वाले अधिकारियों और नेताओं को बर्खास्त कर कड़ी से कड़ी सजा दें नहीं तो जनसैलाब भी जनहित के लिये जान दें सकता हैं तो वो असामाजिक और असंवैधानिक कर्म और सोच का जान भी ले सकते हैं । अब आ गयी औकात ! ! ! मैं सरकारी नौकरी करता हूँ गुलाम नहीं हूँ । । अब जनआन्दोलन कर ऐसे चूतिये के पिछवाड़े में तेजाब डालना पड़ेगा तब ऐसे नेताओं को अक्ल ठिकाने पे आयेगा॥ ।कोई video ya audio recordings हैं क्या इसका बोलने का, अगर तो मुझे दीजिये मैं इसके पिछवाड़े में तेजाब डालूंगा....💪💪💪🔫🔫🔫

image